How to control your ANGER in Hindi | गुस्से पर काबू | अब नहीं करेंगे गुस्सा |

How to control your ANGER in Hindi

How to control your ANGER in Hindi

 

सबसे पहले तो आप सभी का दिल से धन्यवाद आप ये आर्टिकल पढ़ रहे है।🙏

आप अगर ये आर्टिकल पढ़ रहे तो आप अपने गुस्से पर काबू करना चाहते है,और आप जो चाहते है ये जरूर पूरा होगा।

इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पड़ना, आप गुस्सा करना भूल जाएंगे।

अब हम गुस्सा क्या होता है वो जानते है

गुस्सा क्या है?

गुस्सा एक तरह की feeling होती है जो हर मनुष्य में होती हैं जैसे हसना रोना स्वाभाविक है, वैसे गुस्सा होना भी स्वाभाविक है। गुस्से में आप कुछ भी कर सकते हैं,आप भूल जाते है आप क्या कर रहे है, क्या बोल रहे है,खुद पर काबू नहीं होता है, आप होश में नहीं रहते है,कभी कभी खुद को नुक़सान पहुंचा देते है,और खुद के साथ गलत करते है।

गुस्सा करने से आपका blood pressure बढ़ जाता है,जैसे बड़े लोग कहते है, खून मत जला।

फिर गुस्सा करने से आपका और जिस पर गुस्सा किया दोनों का दिन खराब हो जाता है, किसी काम में मन नहीं लगता है,कभी कभी हमे बाद में feel होता है हमने गलत करा,गलत कहा,और निराश हो जाते है। दुखी होते है। और वो गलती नहीं सुधार सकते तो जिंदगी भर पछतावा होता है।

इससे ये पता लगता है कि गुस्सा आप खुद करते है आपसे कोई कराता नहीं है।

अब हम गुस्सा आने के कारण देखंगे,अगर हम उस कारण को ही हमारी जिंदगी से निकाल दे तो गुस्सा कभी नहीं आयेगा,और गुस्से पर काबू रहेगा।

कारण 

सभी मनुष्य को किसी का किसी कारण से गुस्सा आता हैं,सबका अपना अपना एक अलग कारण होता है,सबसे पहले आप अपने कारण को पहचानो की आपको गुस्सा क्यु आता है।

गुस्सा आने के कई कारण है, जैसे कि कोई इंसान ऐसा काम करे जो आपको पसंद नही है, तो गुस्सा आता है, जिस व्यक्ति में धैर्य की कमी होती है, उन्हे भी गुस्सा आता है,वो छोटी छोटी बातों पर गुस्सा करते है या किसी व्यक्ति की मन की इच्छा पूरी नहीं होती है तो उसे गुस्सा आता है,या आप किसी से बहुत प्यार करते है और वो आपको ना मिले तो गुस्सा आता है,या आपको झूठ नहीं पसंद है और कोई झुठ बोले तो गुस्सा आता है। किसी से आप उम्मीद रखते है वो पूरी नहीं होती तो गुस्सा आता है।

अब आप समझ गए होंगे कि सब लोगो का गुस्सा करने का अपना एक अलग कारण होता है।

अगर हम उस कारण को ही खतम कर दे तो गुस्सा कभी नहीं आएगा।

गुस्से पर काबू 

अगर आप लोगो से उम्मीद करना बन्द कर दे,उन पर किसी भी बात पर depend नहीं रहे, या खुद के mind में किसी भी बात को लेकर fixed नहीं रहे,तो गुस्सा नहीं आयेगा, सबकी जिंदगी को जीने का तरीका अलग होता है,सबकी सोच अलग होती है,आप सबकी सोच को नहीं बदल सकते है,इसलिए अपनी सोच को किसी और पर नहीं डाले।और अगर किसी की गलती पर गुस्सा आता भी है तो  खुद पर control करें ,अब आप सोच रहे होंगे कि कैसे control करें ,

1. आप उसी टाइम कुछ ऐसा सोच सकते है, जिससे आपको खुशी मिले,आपका गुस्सा शांत हो जायेगा।

2. गुस्सा जब आता है तो एक energy के साथ आता है, आप अपनी उस energy को किसी अच्छे काम में लगा दे। जैसे पढ़ाई करते है तो पढ़ाई करिए,या आपकी hobby है उसमे लगा दीजिए इससे गुस्से पर काबू कर पाएंगे।

3.अगर आप अपने गुस्से को positive way में लेकर जाएंगे ,तो गुस्सा आने पर भी कोई नुक्सान नहीं होगा , मगर आप negative way में  लेकर जाएंगे तो कुछ भी नुक़सान हो सकता है।

4.किसी को भी अपनी बुरी आदत नहीं बनाए। बुरी आदत आपको कमजोर बना देती है।

6. Daily exercise करें, इससे आप पूरे दिन active रहंगे,और cool feel करेंगे।गुस्सा नहीं आयेगा।

7. जिस बात से गुस्सा आ रहा है, उस बात को उस टाइम नहीं करके,बाद में करे।इससे गुस्से पर काबू होगा और अच्छे से हो पाएगी।

8. लोगो की गलती पर उन्हें माफ करना सीखे।जब भी गुस्सा आए , मुस्करा दो,गुस्सा भाग जायेगा।

♥इन सभी तरीके से आप अपने गुस्से पर काबू कर सकते है।♥

how to controlanger

अब एक कहानी पड़ते है,ये कहानी पूरी जरूर पड़ना ,जिससे जब भी गुस्सा आयेगा आपको ये कहानी याद आएगी और गुस्से को भूल जाएंगे।

एक बार की बात है,एक पिता और उनका एक बेटा था,उनके बेटे को बहुत गुस्सा आता था,वो गुस्से में कोई ना कोई समान तोड़ देता था,तो उस बच्चे के पिता ने उसे कहा जब भी गुस्सा आये तो दीवार पर कील थोक देना,और उस बच्चे को जब जब गुस्सा आता था वो दीवार पर कील थोक देता था,ऐसा करते करते दीवार पूरी कील से भर गई, अब उसके पिता ने उसे कहा कि अब गुस्सा आए तो ये कीले दीवार से निकाल देना, अब वो यही करता,गुस्सा आता तो कील दीवार से निकलता ,मगर कील निकालना उसकी मुश्किल होता था,अब उसका गुस्सा धीरे धीरे खतम हो गया,दीवार से कील निकालने की जरूरत नहीं  पड़ती थी।फिर उसके पिता ने उसे समझाया गुस्से मै हम कुछ भी कर जाते है मगर उसे ठीक करना मुश्किल होता है। तुम्हारे गुस्से ने पूरी दीवार का रूप बदल दिया।इस तरह से हम गुस्से मै जो भी करते है वो गलत होता है। और ये आपको सफलता की ओर जाने से रोक सकता है।

“गुस्सा उस जलती हुई लकड़ी की तरह है,
जो पानी डालने के बाद झुलसती रहती है।”

हम आशा करते है कि अब आप अपने गुस्से पर काबू करोगे।और कभी गुस्सा नहीं करोगे।

अगर ये आर्टिकल पढ़ने से आप अपने गुस्से पर काबू कर पाते है,तो comments में जरूर बताएं।और आगे share जरूर करे।

जय हिन्द दोस्तो।